Saturday, 31 December, 2011

नया वर्ष शुभ हो

नया साल शुभ हो सखे, हों पूरे अरमान ।
जीवन-पथ पर हर कदम मिले तुम्‍हें सम्‍मान ।।

हर दिन हो इस साल का, खुशियों से आबाद

पास फटक पाएं नहीं, जीवन के अवसाद ।।

नित-प्रति और विराट हो, लक्ष्‍यों का आकाश

कदमों में गतिशीलता, मन में हो विश्‍वास ।।

आंखों में सपने सजें, अधरों पर मुस्‍कान

जीवन के संघर्ष में, मिले नई पहचान ।।

सब शुभ हो नव वर्ष में, देश-धरा-आकाश

डर,नफरत ,आतंक का, हो आमूल विनाश ।।

Tuesday, 27 December, 2011

कोहरे का कर्फ्यू लगा

गौरया चुप देखती, बच्‍चे मांगें कौर ।
कोहरे का कर्फ्यू लगा, कब से चारों ओर ।।

जाड़े का इतिहास

ले किरणो की लेखनी, बैठ धूप के पास ।
गौरया लिखने लगी, जाड़े का इतिहास ।।