Sunday, 28 December, 2008

शुभ हो वर्ष- 2009


पूरे हो नव-वर्ष में
सभी आस- विश्वास
पल- भर भी मन आपका
रह ना पाए निराश !
हर पल क्षण नव- वर्ष का
आज तुम्हे उपहार
मन करता है - वार दूँ
तुम पर बरस हजार !!

Wednesday, 24 December, 2008

यादों के सहारे हैं.....

हम जिंदा हैं तो तेरी...... यादों के सहारे हैं !
वो पल..... भी रुलाते हैं , जो साथ गुजारे हैं !
दुनिया तो कहे कुछ भी ,दुनिया का भरोसा क्या ?
हम कल भी तुम्हारे थे, हम अब भी तुम्हारे हैं !

उन प्रीत की राहों का.....

मेरा एक मुक्तक जो मुझे प्रिय है :-

उन प्रीत की राहों का इतिहास नहीं लौटा !
संदल - सी निगाहों का मधुमास नहीं लौटा !
मिलने को तो मिलते हैं जीवन में कई साथी,
तुमसे मिलने जैसा... अहसास नहीं लौटा !