Wednesday, 29 February, 2012

फुरसरत के पल


इसबार बालेश्‍वर के वस्‍ता कस्‍बे में डॉ0 गिरि के घर के किचेन गार्डन और बगीचे में प्रकृति के साथ्‍ा खेलने का छोटा, लेकिन भरपूर मौका मिला, गार्डनिंग भी की और किसानी भी.....

आप मिले.....

कई लोगों में अजीब-सा आकर्षण होता है, मिलते हैं तो अच्‍छा लगता है, कुछ ऐसे------------

आप मिले दिन खिल उठा,  आप गए भई रात ।।
आपहि जानो आप में ,   क्‍या है ऐसी बात ।।।।।

Friday, 24 February, 2012

दिल के पास

प्रियवर तुमको देखकर, हुआ अजब अहसास ।

बैठे तो  हो  दूर  तुम,  लगते  दिल  के  पास ।।

Friday, 17 February, 2012

उड़ीसा में सुवर्णरेखा के किनारे- राजघाट पर

                      दोपहरी मादक हुई, मदिर सुहानी शाम  ।
                                            रजनीगंधा ढालती, चिर-यौवन के जाम ।।

आया द्वार वसंत

                           ठिठुरन शीत कुहास का,समझो है बस, अंत ।
                                               फगुनाई  मस्‍ती लिए, आया  द्वार  वसंत ।।


वसंत

वसंत के इस मौसम में कभी गर्व से मुस्‍कुराते आम के पेड़ को देखिए, मंजरी से लदे महक रहे हैं---
        
                                         अमराई में घुल रही, मधुमय मादक गंध ।
                                       भंवरों को भाने लगा, यौवन का मकरन्‍द ।।

           

वसंत

वृक्षों ने धारण किए, नव पल्‍लव परिधान ।
         कलियों में जगने लगा, यौवन का अभिमान ।।