Friday, 17 February, 2012

वसंत

वृक्षों ने धारण किए, नव पल्‍लव परिधान ।
         कलियों में जगने लगा, यौवन का अभिमान ।।

No comments: