Wednesday, 24 December, 2008

यादों के सहारे हैं.....

हम जिंदा हैं तो तेरी...... यादों के सहारे हैं !
वो पल..... भी रुलाते हैं , जो साथ गुजारे हैं !
दुनिया तो कहे कुछ भी ,दुनिया का भरोसा क्या ?
हम कल भी तुम्हारे थे, हम अब भी तुम्हारे हैं !

2 comments:

adil farsi said...

swagat ha manoj abodh aap ka...hindi blog jagat me... word verification hata le

ABODH said...

aap bhi hain yahan!!! achha laga