Saturday, 3 January, 2009

कुछ दोहे

नव गति , नव लय , रूप नव , पावो नव उत्कर्ष !
पूरण हो हर कामना , शुभ शुभ हो नव- वर्ष ! !
************************************
आँखों में जब से घुला , यादों का मकरंद !
कोहरे में उड़ती मिले, बस- तेरी ही गंध !!
***********************************
पाला , शीत, कुहास का कोई नही प्रभाव !
बूढी आँखों को खले, बेटा , तिरा अभाव !!
**********************************
उन पर भारी बीतती शरद ऋतू की रात !
जिनके सर पर छत नही , हैं अध् -नंगे गात !
*********************************

No comments: