Sunday, 6 May, 2012

आज का मुक्‍तक....



खु़द  को  यूँ  गुदगुदाओ  कभी ।
बे-वजह   मुस्‍कुराओ    कभी  ।
याद  करके  किसी  बात  को ..
खु़द-ब-ख़ुद  खिलखिलाओ कभी ।

1 comment:

रश्मि प्रभा... said...

मन की थकान को भूलने का यही है तरीका ...