Friday, September 29, 2017

एक ताज़ा ग़ज़ल

एक ताज़ा ग़ज़ल आपकी अदालत में========

हर क़दम अपने  में सिमट कर भी
जी रहा  हूँ  सभी  से  कट कर भी

साथ  चलने की  बात करता  था
उसने  देखा  नहीं  पलट  कर भी

उनके  साँचे में  ढल सके ही नहीं
 हमने  देखा बहुत सिमट कर भी

वो रुका  ही  नहीं, न  रुकना था
कितना रोया उसे लिपट कर भी

सिर्फ़   तनहाई   हाथ  आई   है
देखा तक़दीर को उलट कर भी

उलझनें सब सुलझ भी सकती थीं
सोचते तो  ज़रा-सा  हट कर भी

मुझको  बस, तू  दिखाई देता है
ख़्वाब क्या ख़्वाब से उचट कर भी

---------------मनोज अबोध

1 comment:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-09-2017) को "विजयादशमी पर्व" (चर्चा अंक 2743) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'