Friday, 8 March, 2013

एक दोहा

मादक नयनों से तेरे, चख ली थी इक बार ।  
उम्र हुई पर आज तक, उतरा नहीं खुमार ।।

No comments: