Tuesday 5 November 2013

आम आदमी की व्यथा, ये मेरा मजमून । चौराहे पर क्यों हुआ, मानवता का खून ।।


No comments: