Saturday, 2 June, 2012

आज का मुक्‍तक

मित्रता का जतन  हम करें ।
प्रेम-भीगा कथन  हम करें ।
जाति को, वर्ग को छोड़कर
एकता को सघन हम करें ।

No comments: