Thursday, 22 March, 2012

आज का मुक्‍तक......

नेह  का संकलन  प्रेम  है  ।
भावना का सृजन  प्रेम  है  ।
ब्‍याज में प्रेम दो याकि लो...
प्रेम का  मूलधन  प्रेम  है  ।

No comments: