Wednesday 21 March 2012

आज का मुक्‍तक......

अनकही-सी  कहन के  लिए ।
अनछुई-सी  छुअन के  लिए । 
आइये,  पास    जाइए ...
अनचुभी-सी  चुभन के  लिए ।

No comments: