Monday 26 March 2012

आज का मुक्‍तक......

पांव में  कब थकन  चाहिए ।
बस, हृदय में तपन  चाहिए ।
प्रेम  में त्‍याग बलिदान का..
अनवरत इक  हवन  चाहिए ।

No comments: